Monday, 27 February 2012

एक उच्च भू धर पे , रावण का दुर्ग बना ,
                     स्वर्ण दुर्ग से सज्जित , स्वर्ण नगरी वहाँ ,
स्वर्ण नगरी बसी है , भूधर के चहुँ ओर ,
                     सुन्दर  सदन  कई , नभ  छूते  हैं वहाँ ,
विस्तृत है राज पथ , विस्तृत है वीथियाँ ,
                     गज-अश्व की सवारी , रथ  फिरते वहाँ .
स्वेच्छाचारी रक्ष -वृन्द , मकारी में  रत रह ,
                      प्रकृति  विरुद्ध  कर , भोग  करते  वहाँ .


प्रभु ! स्वर्ण मणियों से , हर एक रचना है,
                      स्वर्ण-मणि मिल कर , आँखे चुंधियाती है.
पद -पद मधुशाला , अगणित वधशाला ,
                      स्वेच्छाचार देख कर , आँखें नम होती है .
रक्षण के हेतु वहाँ , ठोर -ठोर सैन्य दल ,
                      शस्त्रागार कई जान , श्वाँस रुक जाती है.
कारगार भरे हुए , देव नर नाग से ही ,
                      उनका शोषण देख  , करुणा ही आती है.


द्वार - द्वार पालक हैं , वर वीर मल्ल यत्र ,
                      हर एक द्वारपाल , सजग हो रहता.
दश दिशा शिविर में , सुदृढ़ है सैन्य-दल ,
                      कुशल है युद्ध हेतु , अभ्यासी हो रहता.
युद्ध हेतु दशग्रीव , उत्सुक  सदैव  रह ,
                      नव-नव व्यूह रच , कौशल को रचता .
जपी-तपी सिद्ध वह , रणधीर सुविज्ञ है ,
                      हर  एक  वर  वीर , रावण  पे  मरता .                    

Sunday, 19 February 2012

हनुमान विनत हो , कहते हैं सभा मध्य ,
                      लंका बनावट को मैं , देख कर आया हूँ .
पीन परकोट तत्र , द्वार चार-चार यत्र ,
                      जटिल है यंत्र-तंत्र , ज्ञात कर आया हूँ.   
वारि युक्त खाई जहाँ , भयंकर जलचर ,
                      पद-पद काल देख  , बच कर आया हूँ .
वर वीर युक्त दल , सुविस्तृत है वाहिनी 
                      रावण की क्षमता को , तोल कर आया हूँ.

सदन बने हुए हैं , पीन परकोट पर ,
                     परकोट पालक जो ,निशाचर रहते .
हर एक द्वार पर , काष्ठ सेतु बने हुए ,
                     वारि युक्त खाई पर , आच्छादित रहते.
कई-कई यंत्र वहाँ , स्वतः संचालित हैं ,
                     अरि और मित्र पर , तीक्ष्ण दृष्टि रखते.
यत्र-तत्र सैन्य-दल , रक्षण में लगे हुए ,
                     आगमन - निर्गमन ,  उचित परखते .

नद-नाल कई-कई , सघन है वन वहाँ ,
                      दुर्गम  भूधर  वहाँ , गमन  कठिन  जो .
गह्वर हैं खड्ड जहाँ , दुर्गम है घाट वहाँ , 
                      रवि-चन्द्र दिखे नहीं , अन्धकार राज जो.
है भूल भूलैया अति ,विभ्रम ही विभ्रम है ,
                      दिशा ज्ञान होता नहीं , निशाचरी तंत्र जो.
छिपे हुए निशाचर , छल करे घात करे ,
                      कोई नहीं बच पाए , रावण का राज जो.      

Saturday, 18 February 2012

राम ! अपनी  क्षमता , अल्पतर न मानिए ,
                        ब्रह्म-विद्या से सम्पन्न , अनुपम वीर हैं.
पारावार विस्तृत है , भयंकर मान लिया ,
                        तेज  आगे  तुच्छ वह , अतुलित वीर हैं.
रावण से निशाचर , कौतुक में मारे कई ,
                        कोई नहीं प्रतिस्पर्धी , अद्वितीय वीर हैं .
अनल-अनिल विद्या , वारि विद्या में प्रबल ,
                        अष्ट-सिद्धि से सायुज्य , सर्वोपरि वीर हैं.


प्रभु ! बहु शास्त्र विज्ञ , तीक्ष्ण बुद्धि से सायुज्य ,
                         वारिधि लंघन हेतु , साधन को सोचिए .
शोक और हताशा को , शीघ्र त्याग स्वस्थ हो के ,
                         उत्साह संचार कर , प्रेरणा को दीजिए .
लक्ष्मण अंगद अत्र , हनुमान ऋषभ से ,
                         नील सह कई वीर , ओज भर दीजिए .
लंका तक जाने हेतु , सेतु के निर्माण हेतु ,
                         वर वीर सब आये , मंत्रणा को कीजिए .


सुग्रीव उद्बोधन से , राम स्वस्थ हो के कहे ,
                         कठिन कराल कार्य , तप से संभव है.
वारिधि लंघन हेतु , वाहिनी वहन हेतु , 
                         सेतु का सृजन अत्र , मुझ से संभव है.
आप सब निश्चिंत हो , अपेक्षित को कहिए ,
                          मम तप साधना से , साधन संभव है.
हनुमान आप कहें , लंका परिचय हमें ,
                          तभी रण नीति और , योजना संभव है.
चिंतामग्न राम देख , सुग्रीव यों कहते हैं,
                      प्रभु ! सीता-उद्धार में ,  देर नहीं कीजिए .
आप के आदेश में ही , सब वीर बंधे हुए ,
                      हनुमान-अंगद को , मर्यादा में मानिए .
ऋषभ-सुषेण हो या , चाहे गंधमादन हो ,
                      जाम्बवंत-नील में से , कोई आप चुनिए .
रावण विध्वंश हेतु , सीता के उद्धार हेतु ,
                      पर्याप्त है एक वीर , आदेश तो कीजिए .


राम कहे सुग्रीव से ,  मित्र वर क्या कहूं  ?
                       मैं भी शीघ्र चाहता हूँ , जानकी उद्धार को .
मूल्य सब तिरोहित , हो गये व्यवहार से ,
                       बन के कपोत चले , गगन  विहार  को .
जानता हूँ राघव से , लोक को अपेक्षा बहु ,
                       इस  हेतु  चाहता  हूँ  , रावण  संहार  को .
मध्य में है प्रसरित , पारावार भयंकर ,
                       घेर  लेती  हताशाएं , करता  विचार को .


करबद्ध सुग्रीव हो , कहते हैं राघव से ,
                        शोक ग्रस्त मन सदा , बुद्धि कुंद करता .
शोक और विषाद तो , प्रकल्प में बाधक हैं ,
                        अरि भाव युगल तो , कर्म भ्रष्ट करता .
हताशा है व्याली सम , बारम्बार दंश मारे ,
                        गज सम आत्मबल , पल-पल मरता.
आशा व उल्लास लिये , प्रभु ! आगे बढ़ें आप ,
                         पाता है विजय वही , उत्साह से बढ़ता.   

Wednesday, 15 February 2012

 जाम्बवंत कथन का , मंतव्य समझ कर ,
                        कपिराज चल दिये , राघव से मिलने .
अग्रगामी  सुग्रीव हो , पश्च हुए जाम्बवंत ,
                        हनुमान साथ लिये , संवाद को करने .
यूथपति -सेनाधिप , हो गये हैं अनुगामी ,
                       अनुभव-कौशल को , राजीव से कहने.
देखा राम-लक्ष्मण ने  , सुग्रीव सदल आये ,
                        भ्राता द्वय बढ़ गये , सुहृद से मिलने.   


सुग्रीव-लक्ष्मण सह, राम श्रृंग शोभते,
                         ऋक्ष श्रेष्ठ जाम्बवंत ,  संवाद को कहते .
प्रभु ! सैन्य दल अब , सज्जित है संगठित ,
                         यूथपति -सेनाधिप , प्रस्थान को चाहते.
अंगद-ऋषभ यहाँ ,  हनुमान -  वेगदर्शी 
                          गंधमादन - सुषेण ,  दर्शन  को  चाहते.
दो-दो हाथ रावण से , तत्पर हैं करने को  .
                          सेनापति  नील  अत्र , शुभाशीष चाहते.


सज्जन-सरल जन , आगत विरोध  चिंत ,
                          कार्य की प्रणाली में , डूबे चले जाते हैं.
संवाद को सुन कर , चिंता मग्न हुए राम ,
                          वदन गंभीर हुआ , भाव आते-जाते हैं.
आरोहित भाव हो के , पतन को चले जाते ,
                          जैसे घन उठ-उठ , नत होते जाते हैं .
सीता सह  लोकोद्धार , प्रश्न पर विचारते ,
                           जैसे अलि मधु पर , मंडराते जाते हैं .

Tuesday, 14 February 2012



नद-श्रोत सम यूथ , बढ़ते बढाते हुए ,
                      कपिराज समक्ष हो , मिलते मिलाते हैं .
कपि-ऋक्ष मिल कर , संत्रास को कहते हैं,
                      कैसे निशाचर शिशु , खाते हैं खिलाते हैं.
वनवासी वृन्द सब , आतंक को कहते हैं ,
                      कैसे  रक्ष - तंत्र  उन्हें , दलते  दलाते  हैं.
लूट लिया मार दिया, दलन - दमन किया,
                      शोषक  पे  दोष  वहाँ , लगते  लगाते  हैं.


कपि-ऋक्ष-वनवासी , एकत्रित होते गये ,
                      मानो कोई ताल वहाँ , बढ़ा चला जाता है.
पीत कपि अगणित , हिलते सुदूर तक ,
                      जैसे कोई धानी क्षेत्र , झूम-झूम जाता है.
श्याम ऋक्ष भीम काय , गरज के लरजता ,
                      मानो  घन  मंडल  ही , गर्जन  मचाता है.
शत कोटि वनवासी , लय सह झूमते हैं,
                      जलधि  में  वायु जैसे  , तरंग  उठाता  है. 


अतुलित सैन्य-दल , जाम्बवंत देख कर ,
                       सुग्रीव समीप जा के , निवेदन करते .
कपिराज आदेश से , यूथपति पहुंचे हैं ,
                       अब अग्र आदेश की , प्रार्थना वे करते.
कपि-ऋक्ष वृन्द सह , वनवासी पहुंचे हैं ,
                       राम लोक नायक हैं , उद्घोष वे करते .
सुग्रीव-लक्ष्मण सह , रामाज्ञा की कामना में ,
                        कपि-ऋक्ष वनवासी , जयघोष करते .                     

Saturday, 11 February 2012

कपि कह नत हुए , राम के श्री चरणों में,
                 राम अंतर हिलता  ,थर-थर कर के .
कंज नेत्र आद्र हुए , कोर भरे अश्रु जल,
                 मानो ज्वार वारि खींचे , हर-हर कर के.
राघव नरसिंह  ने , खींच लिया एक सर ,
                 मानो फणि निकला हो , सर-सर कर के .
सुघ्रीव को कहते हैं , चल पड़ो लंक ओर ,
                 कहते हैं मानो कोप , भर-भर कर के.    


सुग्रीव  प्रणाम कर  , रामाज्ञा स्वीकार  कर , 
                 जाम्बवंत को कहते, ध्वज फहराइये .
अंगद को कह कर  , आदेश अंकन कर 
                 यूथपति स्मर कर , दल बुलवाइये .
चर भेज - भेज कर , पथ सब  हेर कर ,
                 अरि के प्रबंध सब  , ठीक जान जाइये. 
हनुमान अग्र कर , सैन्य संगठन कर ,
                 साधन को साध कर , कूच कर जाइये .  


हर दिशा गूँज गयी , नगाड़ों की थाप पर ,
                  शाखामृग बढ़ गये ,  कपिराज दुर्ग को.
शाखा-शाखा चलते हैं , कूदते हैं धावते हैं ,
                 उठा लिया सर पर ,  हुंकारी से वन को .
भीम काय ऋक्ष वीर , गरज-गरज कर ,
                 गुहा से निकल कर , ठोकते हैं ताल को.
सीधे-सादे वनवासी , ढोल पीट-पीट कर  ,
                  बढ़ गये लेने हेतु , रावण से स्वत्व को.

Monday, 6 February 2012

द्वार खोल-खोल कर, साँसे थाम-थाम कर ,
                बाट जोह- जोह कर ,मन  को  मसोसती .
राम -चित्र रच  कर ,पुष्प-पत्ती जड़ कर  ,
                खूब सोच - सोच  कर ,राम को पुकारती .
सीता दिन-दिन भर ,भूखी-प्यासी रह कर ,
                रोती  राम - राम  कर , अंगुली मरोड़ती.
रावण  की बगिया में,अबला अकेली हूँ जी  ,
                कह - कह राम जी को ,सर को वो फोड़ती.


कपि कुछ  क्षण रुक , हस्त द्वय बाँध कहे ,
                 प्रभु जहाँ प्रमाद हो , मुझे क्षमा कीजिए .
अतल में कैद हुई , देवराज इन्द्र श्री ,
                 आप से ही मुक्त हुई , यश दृढ़ कीजिए .
इन्द्र पुत्र काक बन , सीता-वक्ष  नोच दिया ,
                 अक्ष फोड़ दंड दिया , राम याद कीजिए .
मर्यादा को भ्रष्ट कर , रावण तो हर कर , 
                  जानकी के प्राण लेगा , प्रभु कुछ कीजिए .
                  
सीता तत्र  आशा लिये , जैसे-तैसे जीती है,
                    लक्ष्मण सुघ्रीव सह ,राम लंका आयेंगे.
वर वीर वानर व , ऋक्ष यूथ  लेकर के ,
                    वनवासी सैन्य दल , राम लिये आयेंगे.
राम चाप थाम कर  , सायक को साध कर,
                    दशानन -तंत्र पूर्ण , ध्वस्त कर जायेंगे.
सीता सह लोक का भी , राघव उद्धार कर ,
                    मर्यादा और मूल्य में , प्राण फूँक जायेंगे.

Sunday, 5 February 2012

प्रभु ! सीता उद्धार को , धरा सह चाहती है,
                   सीता-राम की तरह , लोक भी संत्रस्त है. 
स्वत्व जैसे राघव का , रुद्ध किया रावण ने ,
                   प्रभु वैसे धरा का भी , हर लिया स्वत्व है.
स्वेच्छाचार-कदाचार , प्रोत्साहित रावण से ,
                   देव - नर - नाग  सब , रावण  से  त्रस्त हैं.
शोषण व अत्याचार , रक्ष-तंत्र मूल में है,
                   राघव ! विध्वंस तले , सर्व मूल्य ध्वस्त हैं.


देव - नर -नाग से ही , कारागार पूर्ण भरे ,
                   निशाचरी तंत्र ने तो , सभ्यता जलाई है.
अस्त्रागार - शस्त्रागार , यत्र - तत्र मिलते हैं ,
                   धर्म  वहाँ  लुप्त  प्रभु , हिंसा  दिखलाई है.
वधशाला-मधुशाला , लंका की है साज सज्जा ,
                    तस्करी व उत्कोचन , कर्म ही प्रभावी है.
कारागार भोगती हैं , सीता सम कई नारी  ,
                   कोई  भूली - भूली  हुई , कोई  पगलाई है.


राजीव से दूर हुई ,रावण की वाटिका में ,
               सीता सुध खोये बोले , मैं तो डूबी राम जी.
चिड़िया को चुग्गा देती ,पौधों को पानी देती ,
               भरमाई  सीता  कहे , यहाँ  देखो  राम जी.
भोजन की थाल देख , पानी का वो पात्र देख,
               घूंघट को खींच कहे, खाना खाओ राम जी.
खुद की ही छाँव देख ,रोवे हँसे बतियावे, 
                कभी भाग - भाग कहे, घर चलो राम जी.

Friday, 3 February 2012

कवि  योद्धा है, 
कलम है अस्त्र , 
और-
अर्थवान शब्द - विन्यास  है ,
कवि  योद्धा का ,
अमोघ शस्त्र .

इतिहास साक्षी है ,
इस योद्धा की गति से ,
जिसने ,
संवेदना के धरातल पर ,
लड़े हैं कई-कई युद्ध ,
मूल्यों के अस्तित्व के लिए .

योद्धा का श्रृंगार है .
खुरदरा  और कठोर ,
और सजाता है ,
स्वयं को जिरह-बख्तर से,
आग्नेयास्त्रों से ,
कवि योद्धा भी रखता है -
आग्नेयास्त्र जैसे पद-विन्यास ,
अनछुए विषय -शिल्प ,
और
जिरह-बख्तर सी अर्थवत्ता.


योद्धा की तरह देता है ,
निर्लिप्त भाव से ,
स्वशोणित आहूतियां 
जैसे कोई ऋषि ,
पुनीत मंत्रोच्चार के सह 
यजन-कर्म में देते  हैं ,
विश्व कल्याणार्थ 
स्व उपार्जित 
पदार्थों की आहूतियां .



कलम उगलती है आग ,
तब , 
नहीं होता विध्वंस ,
बस होती है,
अनचाही झाड़ियों की ,
निर्मम कांट-छांट ,
और ,
स्थापित होती है ,
लहलहाती फसलें.


कवि की बोई फसलों पर ,
पलती है सभ्यता,
और पुष्ट होते है,
मानवीय मूल्य 
और स्थापित होता है-
कोई सुकृत.


कवि योद्धा है ,
नहीं है नीरो ,
जो कि  -
रोम के जलने पर भी,
तन्मय हो कर  ,
बजाये बांसुरी ,
बल्कि ,
इसके उलट दौड़ पड़ता है,
बुझाने को आग ,
क्योंकि-
वह जीता है,
संवेदना के धरातल पर ,
संवेदना के लिए .

हनुमान कथन से ,  राम गुरु गंभीर हो ,
               कहते हैं वानर से , सीता हाल कहिये .
आप मम हितकारी , सखा और सेवक भी ,
               अभय  समझ  कर , हर बात कहिये .
अतुलित बल युक्त , संकट मोचक रह ,
               मम सह सुपूजित , वरदायी बनिये.
सीता शोध सुकृत है , रक्ष-तंत्र विकृत है, 
               अब सीता संवाद को , खुल कर कहिये.


तब हनुमान सादर , कंकण को सोंप कहे  ,
                प्रभु सीता सहिदानी , आप हेतु लाया हूँ  .
कंकण को देख प्रभु , वक्ष पे लगाये कहे ,  
                अरे सखा ! कंकण को , मैं खूब जानता हूँ . 
अरे यह कंकण तो , वरमाल सह देखे ,
                कर-कंज भिन्न देख , त्रास ही तो पाता हूँ .
सजल नयन हुए , कंठ रुद्ध होता जाता,
                प्रिये ! तुम्हे कष्ट में ही , सदा लिप्त पाता हूँ .


राघव को त्रस्त देख , लक्ष्मण उद्दीप्त हुए ,
                मुख रक्त रवि सम , तत्क्षण ही हो गया  .
कर गहे वज्र धनु,  अवयव  दृढ हुए ,
                वर वीर व्याघ्र सम , क्रुद्ध वह हो गया.
प्रभंजन अंतर में , उमड़ चला है पर ,
                राम अनुशासन में , स्वर रुद्ध हो गया.
अनुज की प्रतिक्रिया , देख कहते हैं राम ,
                कपि! सीता-सन्देश तो , अवरुद्ध हो गया.               

Wednesday, 1 February 2012

हनुमान आगमन , प्रसरण शीघ्र हुआ ,
                     मानो गंध प्रसरण , मंदिर में हो गया .
जैसे-जैसे कपि मिले , आनंद - हिल्लोर बढ़े ,
                     कपि का मिलन जैसे,उत्सव ही हो गया.
कपि-वृन्द फल खाते , ऋक्ष-वृन्द मधु पीते ,
                     जैसे कोई व्रत आज , पारायण हो गया.
हर्ष - ध्वनि सुन कर , वन-प्रांत जाग गया ,
                      मानो गीति काव्य का ही ,शुभारम्भ हो गया.


निशा अवसान सह , खग-कुल जाग करे ,
                     प्रथम किरण सह , प्रकृति  रंजित है.
मंद-मंद स्वर सम , कलरव चहुँ ओर,
                     लगा जैसे साम गीत ,द्विज से स्वरित हैं .
चल पड़े कपि राज , लेकर के हनुमान ,
                     धीर-वीर सम द्वय , कुमार  शोभित हैं.
राम-लक्ष्मण वंदन , सुघ्रीव कर कहते हैं ,
                     प्रभु! आपकी कृपा से , वज्रांग फलित हैं .


श्रद्धाबुद्धि हनुमान , सविनय कहते हैं ,
                    प्रभु के प्रभाव से ही , सीता मिल गयी हैं.
यम-दिशा लंक-देश , रावण-राज यत्र है ,
                    अशोक-वन-बंदिनी , जानकी हो गयी हैं .
भयकारी उपवन , निशाचरी तंत्र दृढ़ ,
                    राम विना अबला वो , निर्बल हो गयी हैं .
प्रभु से अनुज सह , उद्धार की याचना है
                     शीघ्र मिलें यह मान , निष्प्रा हो गयी है.